पटनाफोटो गैलरीबिहारराष्ट्रीय समाचाररेलसमाचार

“पटना मेट्रो” : टनल-ट्रैक और प्लेटफॉर्म स्क्रीन डोर के साथ स्टेशन फीचर

Patna : पटना मेट्रो  ”Patna Metro” रेल प्रोजेक्ट ने पीएसडी को अपनाने के लिए पूरी तैयारी की है। यह उत्कृष्ट सुरक्षा उपकरणों से लैस होगा और मेट्रो ट्रैक पर दुर्घटनाओं को रोकने में मदद करेगा। प्लेटफ़ॉर्म स्क्रीन डोर्स पटना मेट्रो के ट्रेनों में लगाए जाएंगे, जो उत्कृष्ट सुरक्षा सुनिश्चित करेंगे। दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन के अधिकारियों के अनुसार, एलिवेटेड स्टेशनों पर आधी ऊंचाई वाले पीएसडी लगेंगे, जबकि भूमिगत स्टेशनों पर पूरी ऊंचाई वाले पीएसडी होंगे। इस प्रणाली का लागत प्रभावी होगा और मेट्रो स्टेशनों पर बेहतर सुरक्षा सुनिश्चित करेगा।

 


प्लेटफॉर्म पर लगेंगे स्क्रीन डोर
मेट्रो अधिकारियों का बताया गया कि प्लेटफ़ॉर्म स्क्रीन डोर (पीएसडी) का मुख्य उपयोग प्लेटफ़ॉर्म को ट्रैक से अलग करने में है। ये दरवाजे ट्रेन के आगमन और प्रस्थान को नियंत्रित करते हैं, जिसमें वे ट्रेन के निर्धारित स्थान पर रुकते हैं। इसका नियंत्रण प्लेटफ़ॉर्म की पूरी लंबाई के साथ तारतम्य में होता है। ये स्क्रीन डोर्स दुर्घटनाओं को रोकने और ट्रैक पर सामान गिरने से रोकने में मदद करते हैं। इनमें लगे उत्कृष्ट सुरक्षा उपकरण ट्रैक पर गिरने से रोकने में फिजिकल बैरियर के रूप में कार्य करेंगे। डीएमआरसी अधिकारियों के अनुसार, ये पीएसडी सिस्टम द्वारा प्लेटफ़ॉर्म की चौड़ाई भी बढ़ाई जा सकती है, जिससे लोग ट्रैक पर गिरने या ट्रेन से टक्कर के जोखिम से बच सकते हैं। इस सिस्टम के साथ ट्रेन के प्लेटफ़ॉर्म पर आने की गति को बढ़ाया जा सकता है।

यह भी पढ़ें  9000 पदों के लिए : रेलवे ने किया नोटिफिकेशन जारी

प्लेटफॉर्म स्क्रीन डोर (पीएसडी) क्या है
प्लेटफॉर्म को ट्रैक से अलग करने के लिए प्लेटफॉर्म स्क्रीन डोर (पीएसडी) का उपयोग किया जाता है। मेट्रो में पीएसडी दरवाजे ट्रेन के निर्धारित स्थान पर रुकने पर ही खुलते हैं, और इनका नियंत्रण प्लेटफॉर्म की पूरी लंबाई के साथ तारतम्य में होता है। वहीं, प्लेटफॉर्म पर मौजूद पीएसडी ट्रेन के दरवाजों के साथ काम करता है। ट्रेन में प्लेटफॉर्म स्क्रीन डोर (पीएसडी) दुर्घटनाओं को रोकने और ट्रैक पर सामान गिरने से रोकने में सहायक होता है। इन स्क्रीन डोरों में प्लेटफॉर्म पर उत्कृष्ट सुरक्षा उपकरण लगे होते हैं, जो लोगों को ट्रैक पर गिरने से रोकने के लिए फिजिकल बैरियर/अवरोध के रूप में काम करते हैं। इसका उपयोग मेट्रो की सुरक्षा बढ़ाने, दुर्घटनाओं को रोकने और भीड़ के समय भीड़ नियंत्रण में मदद करने के लिए किया जाता है।

यह भी पढ़ें  बटराहा मुहल्ले मे कला संस्कृति मंत्री ने किया लार्ड कृष्णा मिशन स्कूल का किया उद्घाटन
विज्ञापन

प्लेटफॉर्म स्क्रीन डोर (पीएसडी) के फायदे:
1. प्लेटफॉर्म की चौड़ाई की बढ़त : यह लोगों को ट्रैक पर गिरने और ट्रेन से टक्कर के जोखिम से बचाता है।
2. ट्रेन के प्लेटफॉर्म पर आने की गति में बढ़ोत्तरी : इससे ट्रेनों का परिचालन बढ़ता है और यात्रीगण को स्थानांतरित करने में मदद मिलती है।
3. किफायती और ऊर्जा संवर्धन : प्लेटफॉर्म स्क्रीन डोर्स से यात्रियों की सुरक्षा में मदद मिलती है, और ऊर्जा की खपत को कम करती है।

4. बेहतर सुरक्षा उपकरण : इसमें उत्कृष्ट सुरक्षा उपकरण लगे होते हैं, जो दुर्घटनाओं को रोकने और यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने में मदद करते हैं।
5. प्लेटफॉर्म और ट्रैक के बीच बैरियर का काम : ये बैरियर के रूप में काम करते हैं, जो लोगों को ट्रैक से अलग रखते हैं और दुर्घटनाओं से बचाते हैं।
6. उच्चीकृत सुरक्षा प्रणाली : पीएसडी सिस्टम में कई एडवांस फीचर्स और उच्चीकृत सुरक्षा प्रणाली होती है, जो यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करते हैं।

यह भी पढ़ें  संजय भूषण को दुबई में मिला ''ग्लोबल अचीवर्स अंतर्राष्ट्रीय अवार्ड'' 2024

Abhishek Anand

Abhishek Anand, Working with Gaam Ghar News as a author. Abhishek is an all rounder, he can write articles on any beat whether it is entertainment, business, politics and sports, he can deal with it.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
हमेशा स्वस्थ रहने के लिए 6 चीजे करें, आइए जानते हैं. शादीशुदा महिलाओं को किसी के साथ भी नहीं बांटनी चाहिए ये चीजें वास्तु के अनुसार 5 भाग्यशाली वास्तु पेंटिंग किस दिशा में लगानी चाहिए राशि के अनुसार इन रंगों से खेलें होली यह सात स्थानों में मौन रहना चाहिए महिलाएं को भूलकर भी उधार नहीं देना चाहिए बिहार की जन्मी खूबसूरती अभिनेत्रियां करोड़ों फैंस के दिलों पर करती है राज आए जानते है.