BollywoodMovie-Reviewsमनोरंजन

Kill Movie Reviews : पैसेंजर के लिए अमृत की तरह बरसा लक्ष्य

महाकाल बना अमृत

Bollywood Movie Reviews
Kill : IMDB Critic Review
Cast -  Lakshya, Raghav Juyal, Tanya Maniktala, Abhishek Chauhan, Adrija Sinha
Director -   Nikhil Nagesh Bhat
Producer -  Achin Jain, Karan Johar, Apoorva Mehta, Guneet Monga Kapoor
Runtime 105 minutes 
RATING 3/5
GAAM GHAR News

Entertainment / Bollywood Movie Kill Reviews : किल एन एस जी के दिलजले कमांडो अमृत (लक्ष्य) की कहानी है, जिसके प्रेमिका तूलिका (तान्या) की सगाई किसी और से हो जाती है । अमृत छुट्टी में अपने घर आता है और अपने प्रेमिका से मिलने उसके घर जाता है लेकिन इसके प्रेमिका की सगाई हो चुकी होती इसके बाद तूलिका को घर से दिल्ली जाना होता है । अमृत अपने कमांडो दोस्त वीरेश उसी ट्रेन में चढ़ जाता है जिस ट्रेन में तूलिका अपने परिवार के साथ दिल्ली जा रही होती है ।

बदकिस्मती से इस ट्रेन को पैसेंजर्स को लूटने के लिए गुंडों का पूरा गिरोह ट्रेन में चढ़ता है और पूरा ट्रेन ही जैसे हाईजैक कर लेता है फिर शुरू होता है एक दिलजले एन एस जी के कमांडो का खूनी तांडव । फिल्म की शुरुआत अच्छी है फिल्म स्टार्टिंग से ही एक रफ्तार में भागने लगती है किसी भी पात्र को स्थापित करने के लिए बहुत ज्यादा टाइम नही दिया है । जिससे फिल्म स्टार्टिंग में स्लो नही होती है और अपनी गति बनाए रखती है बहुत ज्यादा मारकाट और एक्शन होने के बाद भी फिल्म की एक खासियत ये रही कि फिल्म में गाली वाले डायलॉग नहीं है, जबकि इस तरह की एक्शन, थ्रिलर फिल्म में गाली वाले डायलॉग बहुत ज्यादा होते हैं ।

यह भी पढ़ें  Movie Reviews ; बेहतरीन कलाकारी, फिर भी डूबे भैया जी


फिल्म की कहानी तो नई नहीं है लेकिन फिल्म को फिल्माने का तरीका बेहतरीन है । लक्ष्य ने अपने कैरेक्टर को बखूबी निभाया है । एक ट्रेंड कमांडो कितना खतरनाक होता है ये आप इस फिल्म में देख सकते हैं । फिल्म का खलनायक राघव जुयाल ने भी अपने किरदार को बखूबी निभाया है साथ हीं आशीष विद्यार्थी हमेशा की तरह शानदार परफॉर्मेंस में दिखे । फिल्म में फिल्म के नायकी को करने लिए कुछ ज्यादा था नहीं लेकिन जितना ही था उसे तान्या ने बखूबी निभाया है ।

यह भी पढ़ें  प्रोड्यूसर - डायरेक्टर को नुकसान नहीं, अपनी फ़िल्म रिलीज़ करें मिथिभोज पर

फिल्म का सबसे बेहतरीन पार्ट सेनेमेटोग्राफी और कोरियोग्राफी है । फिल्म की 70 से 80 प्रतिशत कहानी ट्रेन में बीतता है और ट्रेन की बोगी में को थोड़ा सा जगह होता है उसी में ये सारे एक्शन सीन्स को फिल्माए गए हैं यही फिल्म की खूबसूरती है । फिल्म के निर्देशक निखिल नागेश भट्ट ने फिल्म को शुरू से ही पकड़ कर रखा है और सिनेमेटोग्राफर राफे महमूद ने तो कमाल का काम किया है ऐसा नही है कि फिल्म में कुछ चीजें खलती नहीं है जहां एक तरफ फिल्म के नायक को एक तरफा सुपर हीरो की तरह दिखाया गया है वहीं नायक के दोस्त वीरेश को करने के लिए ज्यादा कुछ नहीं है जबकि वो भी एन एस जी का ट्रैंड कमांडो है । जो किसी को भी खाल सकता है ।

यह भी पढ़ें  अनुपमा यादव और माही श्रीवास्तव का नया धमाकेदार गीत 'छाती छेद कर दिही' हुआ रिलीज

फिल्म संगीत फिल्म की कहानी के हिसाब से ठीक है फिल्म में एक्शन के साथ लव तड़का भी लगाया गया है । लक्ष्य किस तरह किस बहादुरी से राघव को रोक पाता है रोक पाता है या नहीं और अपने प्यार को पता है या नहीं ये जानने के लिए तो आपको पूरी फिल्म देखनी होगी । अगर फिल्म के रेटिंग की बात करें तो फिल्म को 3 स्टार मिलना चाहिए। (This review is featured in IMDb Critics Reviews)

Ashok Ashq

Ashok ‘’Ashq’’, Working with Gaam Ghar News as a Co-Editor. Ashok is an all rounder, he can write articles on any beat whether it is entertainment, business, politics and sports, he can deal with it.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button