बिहारराजनीतिसमाचारसहरसा

अन्यायपूर्ण साजिश के विरुद्ध तीन मोर्चो पर संघर्ष – पूर्व सांसद लवली आनंद

बलराम कुमार शर्मा की रिपोर्ट

सहरसा: बिहार का बच्चा-बच्चा अवगत है कि स्व. डीएम जी कृष्णैया मामले में पूर्व सांसद आनंद मोहन जी पूरी तरह निर्दोष हैं। बिहार का कोई ऐसा नेता नहीं बचा है जो समय-समय पर इस सच्चाई का बयान न किया हो। स्वयं सी एम नीतीश कुमार जी कई बार उन्हें निर्दोष बताते हुए सार्वजनिक मंचों से उनकी रिहाई की घोषणा कर चुके हैं। लेकिन जब पिछले दिनों माननीय विधायक श्री चेतन आनंद सहित प्रतिपक्ष के दो दर्जन से अधिक विधायकों द्वारा बिहार विधान सभा में इस मामले में ध्यानाकर्षण प्रस्ताव लाया गया तो जवाब में पहली बार राज्य सरकार की मंशा स्पष्ट हो गई कि वह अब तक लोगों से लगातार झूठ बोल रही थी और गुमराह कर रही थी।

उक्त बातें अपने आवास पर आयोजित संवाददाता सम्मेलन में पूर्व सांसद लवली आनंद ने कही। उन्होंने आगे बताया कि हमने इस अन्यायपूर्ण साजिश के विरुद्ध तीन मोर्चो पर संघर्ष का निर्णय लिया है- कोर्ट, सदन और सड़क। कोर्ट के स्तर पर तो हमारी तैयारियां चल ही रही है, लेकिन सभी जानते हैं लोकतंत्र में सबसे बड़ी अदालत जनता की अदालत है। इसी आशय को लेकर पिछले नवंबर 21 में ही ‘फ्रेंड्स ऑफ आनंद’ ने यह घोषणा की थी कि वह समान विचार धारा वाले संगठनों, पार्टियों और देश भर के लाखों आनंद समर्थकों के साथ आर-पार के संघर्ष का आगाज करेगा और इसकी जोरदार शुरुआत महाराणा प्रताप पुण्यतिथि पखवाड़ा 29 जनवरी 2022 को पटना में पूर्व घोषित ‘सिंह गर्जना रैली’ से होगी। विदित हो कि इसे लेकर मैंने अपने बड़े बेटे विधायक श्री चेतन आनंद और पुत्री एडवॉकेट सुरभि आनंद के साथ व्यक्तिगत तौर पर देश भर में घूम- घूम कर बड़े पैमाने पर लोगों को न्योता भी दिया था।

आनंद मोहन जी के साथ हो रहे अन्याय के विरुद्ध जहां लोगों में काफी गुस्सा था, वहीं सिंह गर्जना रैली को लेकर आम लोगों में भारी उत्साह भी। परंतु इस अन्याय पूर्ण साजिश के खिलाफ देश भर में उभरे आक्रोश से घबराई राज्य सरकार ने कोरोना के बहाने पहले तो 21 जनवरी तक लॉक डाउन और रात्रि कर्फ्यू की घोषणा की और अब जब कोरोना की कथित तीसरी लहर थम सी गई थी तो अचानक 6 फरवरी 2022 तक इसकी अवधि विस्तार कर जनाक्रोश के विस्फोट को रोकने की निष्फल कोशिश की है। परंतु इन सरकारी साजिशों से न तो हमारे संकल्प टूटने वाले हैं और न ही हमारे इरादे डगमगाने वाले हैं। हम रुकावटों में भी अपने दृढ़ निश्चय का विस्तार करेंगे और पहले से भी दुगुनी ताकत से रैली की ऐतिहासिक सफलता सुनिश्चित करने में जुटेंगे।

यह भी पढ़ें  मारपीट कर युवक को किया जख्मी,रूपए की छिनतई कर बाइक लुटने का असफल प्रयास 

इसी उद्देश्य को लेकर कल साथियोंसे अगली योजना पर रायशुमारी हेतु देश भर में कई महत्वपूर्ण बैठकें आयोजित की गईं। जिसमें मुख्यत: तीन निर्णय उभरकर सामने आए
राज्य सरकार द्वारा ‘लॉक डाउन’ की अवधि 6 फरवरी तक बढ़ाए जाने के कारण अब ‘सिंह गर्जना रैली’ पटना में कुंवर सिंह विजयोत्सव दिवस 23 अप्रैल 2022 को होगी।
पूर्व सांसद आनंद मोहन जी के जन्म दिवस पर आगामी 28 जनवरी 22 को उनकी रिहाई को लेकर सोसल साइट पर ‘ट्वीटर ट्रैंड’ और संध्या में गरीबों के बीच कंबल और गर्म वस्त्रों का वितरण होगा।
और आगामी 29 जनवरी 22 को रैली के पूर्व निर्धारित मुद्दों को लेकर देश भर में ‘वर्चुअल’ मीटिंगें होंगी।
मुख्य मुद्दे हैं –
अपनी पूर्व घोषणा के अनुरूप बिहार सरकार राजधानी पटना के मुख्य चौराहे पर वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप की अश्वारोही प्रतिमा स्थापित करे।
प्रताप जयंती या पुण्य तिथि पर एक दिवसीय अवकाश की घोषणा करे।
और पूर्व सांसद श्री आनंद मोहन जी को ससम्मान रिहा करे।

यह भी पढ़ें  गायत्री महायज्ञ: धार्मिक उत्सव का उद्घाटन प्रमुख गोविंद कुमार ने किया

Gaam Ghar News Desk

गाम घर न्यूज़ डेस्क के साथ भारत और दुनिया भर से नवीनतम ब्रेकिंग न्यूज़ और विकास पर नज़र रखें। राजनीति, एंटरटेनमेंट और नीतियों से लेकर अर्थव्यवस्था और पर्यावरण तक, स्थानीय मुद्दों से लेकर राष्ट्रीय घटनाओं और वैश्विक मामलों तक, हमने आपको कवर किया है। Follow the latest breaking news and developments from India and around the world with Gaam Ghar' newsdesk. From politics , entertainment and policies to the economy and the environment, from local issues to national events and global affairs, we've got you covered.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button