Delhiराष्ट्रीय समाचारसमस्तीपुरसमाचार

“भारत रत्न से सम्मानित: जननायक कर्पूरी ठाकुर”

जननायक: कर्पूरी ठाकुर गरीबों का सहारा; सादगी के प्रतीक थे

Story Highlights
  • Bharat Ratna Karpuri Thakur
फोटो साभार : दैनिक भास्कर

Bharat Ratna Karpuri Thakur: राष्ट्रपति भवन के दरबार हॉल में आयोजित 30 मार्च को समारोह में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री कर्पूरी ठाकुर (Karpuri Thakur) को भारत रत्न से सम्मानित किया गया। इस अवसर पर देश की 5 हस्तियों को भी इस उच्च सम्मान से नवाजा गया। इनमें पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह, पी.वी. नरसिम्हा राव, प्रख्यात कृषि वैज्ञानिक एम.एस. स्वामीनाथन शामिल हैं। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री कर्पूरी ठाकुर इस सम्मान के पात्र बनकर अत्यंत सम्मानित हैं। यह समारोह देशभर से लोगों के उत्साह और गर्व के साथ आयोजित किया गया, जिसमें समाज के विभिन्न वर्गों से लोग उपस्थित थे। इस उपलक्ष्य में, राष्ट्रपति ने उन सभी व्यक्तियों को विशेष सम्मान प्रदान किया जो अपने क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान देने के साथ-साथ देश की उन्नति और विकास में योगदान किया हैं।

यह भी पढ़ें  मैथिली एवं हिन्दी साहित्य के जनकवि थे डाॅ मनोरंजन झा, उनके नाम पर विश्वविद्यालय मे स्थापित हो चेयर: प्रो केष्कर ठाकुर 

हमारे व्हाट्सएप चैनल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें
भारतीय राजनीति के इतिहास में, जननायक कर्पूरी ठाकुर का नाम एक ऐसा नाम है जो लोगों के दिलों में अटल रूप से बसे हुए हैं। उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया जाने पर बिहर के लोग में काफी ख़ुशी हैं। कर्पूरीग्राम में जन्मे, कर्पूरी ठाकुर ने गरीबी को नजदीक से देखा और उसे अपने जीवन का मुख्य ध्येय बनाया। उन्होंने बड़े ही सादगी और संवेदनशीलता से लोगों के बीच संपर्क किया। उनकी बातों में एक अद्वितीय संजीवनी होती थी, जिससे भीड़ उनके पास आ जाती थी।

गूगल न्यूज़ पर फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें
उनके भाषण सुनने वालों की संख्या धीरे-धीरे बढ़ती थी। मुझे याद है, मेरी बुजुर्ग नानी मुझे कहती थीं कि जब वह छोटी थीं, तो कर्पूरी ठाकुर उनके घर भी आया करते थे। उनका मिलना बहुत सरल और संवेदनशील था। सेवानिवृत्त प्रोफेसर शिवाकांत पाठक कहते हैं कि कर्पूरी ठाकुर एक समाजवादी जननेता थे। उन्होंने अपनी राजनीतिक करियर में गरीबों के हित के लिए प्रयास किए। दरभंगा जिला स्थित एमएल एकेडमी स्कूल में उन्होंने द्वितीय राजभाषा के खिलाफ विरोध किया, परंतु उन्होंने इसका तनिक भी बुरा नहीं माना।

यह भी पढ़ें  "पटना मेट्रो" : टनल-ट्रैक और प्लेटफॉर्म स्क्रीन डोर के साथ स्टेशन फीचर


उनके गांव के महेश्वर सिंह कहते हैं कि कर्पूरी ठाकुर उनसे बड़े थे। वे गांव में हर साल होली के दिन लोगों के बीच रह कर डंफा बजाते थे, चाहे वे कितने ही बड़े पद पर क्यों ना होते। कर्पूरी ठाकुर को राष्ट्रपति भवन में भारत रत्न से सम्मानित किया जाने पर पूरे भारत, बिहार सहित सभी लोगों में खुशी और गर्व है। उनका संघर्ष और समर्पण आज भी हमें प्रेरित करता है। उनके विचारों और कार्यों को याद करके, हमें उनके जैसे साहसी नेता की आवश्यकता है, जो समाज के निर्माण में सक्रिय भूमिका निभाते हैं।

यह भी पढ़ें  डीएम-एसपी स्वयं भ्रमणशील रहकर विधिव्यवस्था का लेंगे जायजा

Abhishek Anand

Abhishek Anand, Working with Gaam Ghar News as a author. Abhishek is an all rounder, he can write articles on any beat whether it is entertainment, business, politics and sports, he can deal with it.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
गुस्से में लाल पत्नी को कैसे मनाए.? चैत्र नवरात्रि के नौ दिन 9 रंग के कपड़े पहन कर पूजा करने से बेहद प्रसन्न होंगी मां दुर्गा महिलाएं को भूलकर भी उधार नहीं देना चाहिए राशि के अनुसार इन रंगों से खेलें होली Unmarried Actresses: बिना शादी किए खुशहाल जिंदगी बिता रही हैं ये एक्ट्रेसेस