धर्म-कर्मसमाचारसहरसा

भारतीय चिंतन की विशेषता है कि परमेश्वर को भी हमने माँ कहकर पुकारा: डॉ अरुण कुमार जयसवाल 

सुभाष चन्द्र झा की रिपोर्ट

सहरसा :  शनिवार को गायत्री शक्तिपीठ में बासंती नवरात्र का प्रथम दिन कलश स्थापन एवं आदि शक्ति के प्रथम स्वरूप माँ शैलपुत्री का पूजन विधि-विधान पूर्वक किया गया।पूजन का शुभारंभ भक्तिभाव से मातृ वंदना से हुआ।इस अवसर पर डॉ अरूण कुमार जायसवाल ने कहा सृष्टि का निर्माण आदि शक्ति माँ गायत्री के कृपा से हुआ। संसार के निर्माण में जगत की माता देव माता, वेद माता,विश्व माता है। यह भारतीय संस्कृति का चिंतन है,यह हमारे पूर्वज ऋषि मनिषयों की देन है।
Advertisement

यह भारतीय चिंतन की विशेषता है कि परमेश्वर को भी हमने माँ कहकर पुकारा। यह कहीं अन्यत्र नहीं है क्योंकि हमारे जीवन का पहला संवंध माँ से है।जिवात्मा की उत्पत्ति परमेश्वर से है,माँ है। इस एहसास के साथ नौ दिनों तक जीऐं।नवरात्र के नौ दिनों तक शक्ति को साधने का है।शक्ति साधना में नौ चक्र हैऔर नौ देवी है। आदि शक्ति के प्रथम स्वरूप माँ शैलपुत्री है।शैलपुत्री का मतलब है जहां चेतना सुषुप्ता अवस्था में है।चेतना के जागृति का आधार है। जागृति नहीं है।शैलपुत्री अर्थात पार्वती।जो ब्रह्मचारिणी बनकर तपस्या करती है।जीसकी पूजा कल होगी। ब्रह्मचारिणी में अंकुरण हो चुकी है।शैलपुत्री का स्वरूप साधक के लिए चेतना की सुषुप्ता अवस्था से जागरण की ओर है।चेतना अंकुरण के लिए तैयार है। आधार चक्र का ध्यान सुषुप्ता अवस्था की समाप्ति है। आज जो हम जप व ध्यान करेंगे वह मूलाधार में है।नववें दिन ज्ञान की प्रभा प्रकट होती है।

यह भी पढ़ें  वीरू पासवान रिलायंस ज्वेलर्स लूट कांड में देशी पिस्टल के साथ गिरफ्तार
आज शैलपुत्री साधना की तैयारी है।साधना का आधार है।शैलपुत्री में साधना की सिद्धी दात्री होने की संपूर्ण संभावना है लेकिन सुषुप्ता अवस्था में है। लेकिन सिद्धिदात्री है तो वह पूर्ण है।उससे आगे कुछ नहीं है।पूर्ण प्रकाश, पूर्ण ज्ञान, पूर्ण आनंद है।नौ दिनों तक धीरे-धीरे मूलाधार से सहस्रार तक का ध्यान करते जायेंगे तभी नवरात्र में शक्ति साधना कर पाएंगे।शक्ति साधना प्रकृति का विज्ञान है।
संध्याकालीन भजन,कीर्तन के साथ साथ रामचरितमानस के अनछुए प्रसंग की चर्चा होगी। माँ शैलपुत्री का पूजन शक्तिपीठ की देव कान्या मनीषा ,मधु एवं अन्य कान्याओं ने करवाई। पूजन के मुख्य यजमान पंकज जी सपत्नी मौजूद थे। गायत्री शक्तिपीठ के वरीय सदस्य श्यामानन्द लाल दास ने बताया कि आज कम्प्यूटर शिक्षण के नये बैच का दीक्षारम्भ समारोह एवं पूराने बैच का दीक्षान्त समारोह होगा।साथ ही पुराने बैच के सफल प्रथम, द्वितीय, तृतीय छात्र को पारितोषिक रूप में लैपटॉप भी दिया जाएगा।

Gaam Ghar News Desk

गाम घर न्यूज़ डेस्क के साथ भारत और दुनिया भर से नवीनतम ब्रेकिंग न्यूज़ और विकास पर नज़र रखें। राजनीति, एंटरटेनमेंट और नीतियों से लेकर अर्थव्यवस्था और पर्यावरण तक, स्थानीय मुद्दों से लेकर राष्ट्रीय घटनाओं और वैश्विक मामलों तक, हमने आपको कवर किया है। Follow the latest breaking news and developments from India and around the world with Gaam Ghar' newsdesk. From politics , entertainment and policies to the economy and the environment, from local issues to national events and global affairs, we've got you covered.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button