बिहारमोतिहारीराष्ट्रीय समाचारसमाचार

प्रोग्रामेटिक मैनेजमेंट ऑफ़ टीबी ट्रीटमेंट को लेकर एक दिवसीय कार्यशाला आयोजित

मोतिहारी: टीबी मुक्त भारत अभियान के तहत मोतिहारी के एक सभागार में निजी चिकित्सकों के लिए टीबी से संबंधित विषयों पर कार्यशाला आयोजित की गई। जिसका उद्घाटन जिला संचारी रोग पदाधिकारी डॉ रंजीत राय, आईएमए के जिलाध्यक्ष डॉ आशुतोष शरण, डॉ तबरेज़ अजीज,डॉ डी नाथ एवं डॉ सुशील कुमार सिन्हा के द्वारा संयुक्त रूप से किया गया।

कार्यशाला को संबोधित करते हुए डॉ रंजीत राय ने कहा कि वर्ष 2025 तक टीबी मुक्त भारत बनाने का लक्ष्य रखा गया है। वहीं आईएमए के जिला अध्यक्ष ने कहा कि अधूरे एवं अनियमित इलाज के कारण टीबी के जीवाणु एक या अधिक दवाओं के प्रति रेजिसटेंट हो रहे और प्रयुक्त दवा बेअसर हो रही जो चिंतनीय विषय है।

यह भी पढ़ें  एक अधेड़ का शव मिलने से इलाके में सनसनी

उन्होंने टीबी उन्मूलन जैसे कार्य में सभी सरकारी व प्राइवेट चिकित्सकों से बढ़-चढ़ कर सहयोग करने की अपील की। निजी क्षेत्र के मरीजों को सरकार के वेब पाेर्टल पर सूचिबद्ध करें: कार्यशाला में उपस्थित डब्ल्यूएचओ कंसलटेंट डॉ राजीव ने कार्यक्रम के महत्व पर चर्चा करते हुए कहा कि निजी क्षेत्र के मरीजों को सरकार के वेब पाेर्टल पर सूचिबद्ध कर उन्हें सरकार द्वारा प्राप्त सुविधाओं से जोड़ा जाए।

यह भी पढ़ें  "मैथिली सिनेमाक इतिहास" नामक किताब में युवा फ़िल्म निर्देशक एन मंडल की चर्चा
Advertisement

उन्होंने निजी चिकित्सकों से मरीजों को सीबीनैट जांच कराने का अनुरोध करते हुए कहा कि इससे टीबी बीमारी के साथ रिफाम्पिसिन रेजिसटेंस की भी जानकारी मिलती जो मरीजों के इलाज के लिए काफी कारगर है।

मौके पर संचारी रोग पदाधिकारी डॉ रंजीत राय,आईएमए के जिला प्रेसिडेंट डॉ आशुतोष शरण, डॉ तबरेज़ अजीज,डॉ डी नाथ एवं डॉ सुशील कुमार सिन्हा, डॉक्टर फॉर यू के प्रोजेक्ट मैनेजर युवराज सिंह, कोऑर्डिनेटर विकास सिंह, ज़िला समन्वयक कावेंद्र कुमार सागर, आदित्य के साथ जिला यक्ष्मा केंद्र की पूरी टीम मौजूद थी।

यह भी पढ़ें  Bhojpuri: फिल्म ‘बोले चूड़ियाँ बोले कँगना’ का ट्रेलर हुआ रिलीज

Gaam Ghar

Editor

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button