अंतर्राष्ट्रीय समाचारबिहारराजनीतिराष्ट्रीय समाचारसमाचार

MLC चुनाव कांग्रेस 24 सीटों पर पार्टी उतारेगी उम्मीदवार

बिहार: कांग्रेस ने स्थानीय निकाय कोटे से होने वाली सभी 24 सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी शुरू कर दी है। पार्टी ने वैसे उम्मीदवारों को वापस बुलाना शुरू किया है, जो सहयोगी दलों के लिए मदद करना चाह रही थी। अकेले चुनाव लड़ने के लिए प्रदेश नेतृत्व को आलाकमान के निर्देश का इंतजार है।

कांग्रेस विधायक दल के नेता अजीत शर्मा ने कहा कि फरवरी-मार्च में होने जा रहे बिहार विधान परिषद की सभी 24 स्थानीय निकायों की सीटों पर कांग्रेस अपने उम्मीदवार उतारेगी। उन्होंने कहा कि जब तक पार्टी आलाकमान हमें दूसरी लाइन का पालन करने के लिए नहीं कहता, तब तक पीछे मुड़कर नहीं देखा जाएगा।  रविवार को अजीत शर्मा ने कहा था कि महागठबंधन खत्म नहीं हो सकता। यह गठबंधन बीजेपी के खिलाफ बना था। अकेले लड़ने का मतलब यह नहीं कि महागठबंधन समाप्त हो गया। कांग्रेस का जनाधार मजबूत है और आगे भी होगा।

वहीं दिल्ली में कई दिनों से जमे प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ मदन मोहन झा ने कहा कि राज्य में बड़ी पार्टी होने के नाते राजद की यह जिम्मेदारी थी कि वह समान विचारधारा वाली पार्टियों के साथ मिलकर चुनाव लड़े। लेकिन ऐसा दिख नहीं रहा है। एक समय लालू प्रसाद ने कांग्रेस को छह-सात सीट देने की बात कही थी। अब तेजस्वी यादव कुछ और बयान दे रहे हैं। ऐसे में कांग्रेस के पास कोई विकल्प शेष नहीं रह गया है। हम सभी सीटों पर मजबूती से चुनाव लड़ेंगे। पहले छह-सात सीटों पर उम्मीदवारों को हरी झंडी दी गई थी। अब सभी सीटों पर पार्टी उम्मीदवारों की तलाश कर रही है। आलाकमान को पूरे घटनाक्रम की सूचना दे दी गई है।

यह भी पढ़ें  RJD के लोग सरकार में कमाई कर रहे थे, विधायकों को लाखों-लाख दे रहे थे - CM नीतीश

अकेले चुनाव लड़ा राजद तो उसकी हार तय : अनिल शर्मा

स्थानीय निकाय कोटे से होने वाले विधान परिषद चुनाव में राजद की ओर से अकेले चुनाव लड़ने की घोषणा पर कांग्रेस अब हमलावर हो गई है। कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अनिल शर्मा ने दावा किया है कि अगर कांग्रेस के बगैर राजद एमएलसी का चुनाव लड़ती है तो उसकी बड़ी हार तय है। साथ ही तेजस्वी यादव के मुख्यमंत्री बनने की सारी संभावनाएं भी समाप्त हो जाएगी।

यह भी पढ़ें  नारी पत्थर नहीं - डॉ शेफालिका वर्मा

अनिल शर्मा ने सोमवार को कहा कि स्थानीय निकाय चुनाव में एमएलसी पद के लिए कांग्रेस के बिना राजद चुनाव लड़ेगा तो 2021 के विधानसभा उपचुनाव, 2009 के संसदीय चुनाव और 2010 के विधानसभा चुनाव की तरह ही राजद की बड़ी हार होगी। साथ ही 2025 में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के सीएम बनने की सारी संभावनाएं समाप्त हो जाएगी।

यह भी पढ़ें  मुंगेर स्थित लाल दरवाजा इलाके से रेल-सह-सड़क पुल को जनता को समर्पित करते मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button