अंतर्राष्ट्रीय समाचारबिहारराजनीतिराष्ट्रीय समाचारसमाचार

कोरोना ने जनगणना पे लगाई ब्रेक

कोरोना से देश में बहुत चीजों पर रोक लगा दी गयी है. देश में पहली बार जनसंख्या की गिनती नहीं हो पाई है. कोरोना की वजह से 120 साल बाद दशकीय जनगणना पर ब्रेक लग गया है. 2019 से ही जनगणना की तैयारी शुरू की गयी थी. कोरोना के कारण जनगणना की सभी तैयारियां धरी रह गयीं. गौरतलब है कि बिहार में 1901 से लगातार प्रत्येक दस साल पर जनगणना होती आ रही है.

watch film

 2011 में जनगणना कराई गई थी.

वर्ष 2021 गुजर गया और 10 वर्षों के बाद होनेवाली जनगणना नहीं हुई. जनगणना से देश व राज्यों की वृद्धि दर के साथ अन्य सभी विकास के आंकड़ों की सूचनाएं मिलती हैं. यह एक प्रकार का दृष्टिपत्र है जो पहली बार कोरोना महामारी की भेंट चढ़ गया. अब भारत सरकार जनगणना के अनुमानित आंकड़े जारी कर सकती है. जनगणना होती, तो सरकार के पास 34 प्रकार की सूचनाएं उपलब्ध हो जातीं.

यह भी पढ़ें  केके पाठक की नजर अब स्कूलों के बेंच डेस्क पर
Gaam Ghar

2011 तक भारत की जनगणना 15 बार की जा चुकी है. जनगणना नहीं होने से कई नुकसान भी होंगे. सरकारों को इससे विकास के आंकड़े मिलते हैं. सरकार अपनी नीतियां बनाती है. अब जनगणना न होने से सरकार अनुमानित आंकड़े जारी कर सकती है.

दरअसल, कोरोना के खिलाफ जारी टीकाकरण की वजह से केंद्र सरकार को टीका लगाने वाले 84.67 करोड़ वयस्कों (18+) की सटीक जानकारी मिल चुकी है. अब 15 से 18 साल के किशोरों का वैक्सीनेशन शुरू हो रहा है. इससे सरकार को लगभग पूरी आबादी की संख्या का अंदाजा हो जाएगा. इसलिए सरकार का मानना है कि जनगणना को 2031 तक टालने से कोई खास नुकसान नहीं होगा.

सूत्रों की मानें तो टीकाकरण के अलावा डेटा इंट्रीगेशन से भी जनसंख्या के सही-सही आंकड़े सरकार को मिल रहे हैं. वहीं जन्म-मृत्यु पंजीकरण कानून में प्रस्तावित संशोधन से रास्ता और भी आसान हो जाएगा. वोटर आईडी को आधार से जोड़ने के ताजा प्रस्ताव से भी जनगणना निदेशालय का काम आसान हो जाएगा. ऐसे में करीब 12,695 करोड़ रु. बच जाएंगे. साथ ही 30 लाख कर्मचारियों की 2-3 साल चलने वाली कवायद बच जाएगी.
बता दें कि जनगणना में न सिर्फ परिवार और उसके सदस्यों की सूचना मिलती है, बल्कि मकान के फर्श, दीवार और छत की सूचनाएं भी मिल जातीं. स्वामित्व की जानकारी मिलती. स्वच्छ भारत अभियान की अपडेट जानकारी जिसमें हर घर में शौचालय का प्रयोग, पेयजल की आपूर्ति की स्थिति, बिजली कनेक्शन, रसोईघर में गैस कनेक्शन रेडियो, टीवी, टेलीफोन, मोबाइल, स्मार्टफोन, साइकिल, स्कूटर, मोटरसाइकिल, कार जीप, परिवार के सदस्यों का बैंक खाता सहित इससे पुरुष, स्त्री, अन्य लिंग की सूचनाएं उपलब्ध होती. साथ ही पिछले 10 वर्षों के दौरान जनसंख्या में आये बदलाव की जानकारी मिलती.

यह भी पढ़ें  बेगूसराय में दो हिस्सों में बंटी पुरबिया एक्सप्रेस

Gaam Ghar

Editor

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button