बिहारराजनीतिसमस्तीपुरसमाचार

1981 समस्तीपुर जेल गोलीकांड के शहीद का० कालीचरण राय को माले ने श्रद्धांजलि दिया

शहीदों से प्रेरणा लेकर फासीवाद के खात्मे के खिलाफ संघर्ष तेज करेगी माले

समस्तीपुर: 1981 समस्तीपुर जेल गोलीकांड के शहीद का० कालीचरण राय समेत शहीद सुखदेव राय एवं राजेंद्र साह का संयुक्त शहादत दिवस कार्यक्रम शुक्रवार को चकनूर स्थित राजेंद्र- सुखदेव- कालीचरण पुस्तकालय पर समारोह पूर्वक मनाया गया. जिला सचिव प्रो० उमेश कुमार ने शहीद स्मारक पर झंडोत्तोलन किया. तत्पश्चात दो मिनट का मौन धारण कर शहीद स्मारक पर माल्यार्पण किया गया.
मौके पर आयोजित संकल्प सभा की अध्यक्षता उपेंद्र राय ने की तथा सभा का संचालन सुरेन्द्र प्रसाद सिंह ने किया. सभा को जिला कमिटी सदस्य बंदना सिंह, प्रमिला राय, रामचंद्र पासवान, जीवछ पासवान, राजकुमार चौधरी, किसान महासभा के जिला संयोजक ललन कुमार समेत मो० कम्मू, मो० महताब, अशोक राय, अरूण राय, टींकू यादव, कृष्णा दास, शोभा देवी, अनील चौधरी, पंसस ऐनुलहक, महेश पासवान, साधुशरण साह, सेवानिवृत्त फौजी युगेश्वर राय, उमेश सिंह आदि ने संकल्प सभा को संबोधित किया.

यह भी पढ़ें  बिहार सरकार के कई मंत्री हुए कोरोना पॉजिटिव

बतौर मुख्य वक्ता सभा को संबोधित करते हुए भाकपा माले जिला सचिव प्रो० उमेश कुमार ने कहा कि का० कालीचरण राय ने सुखदेव राय, राजेंद्र साह आदि के साथ मिलकर उस समय पुलिस एवं सामंती जुल्म के खिलाफ लड़ाई रहे थे. हमारे क्रांतिकारी साथी दलित- गरीब- अक्लियतों की मान- सम्मान के लिए निर्णायक संघर्ष चला रखा था. झूठे मुकदमे में का० कालीचरण राय को जेल में डाला गया था. जेल के अंदर भ्रष्टाचार एवं पुलिस जुल्म के खिलाफ उन्होंने अन्य बंदियों के साथ मिलकर आंदोलन शुरू किया. योजनाबद्ध तरीके से आंदोलन को कुचलने के ख्याल से प्रशासन द्वारा गोली चलाई गई. 14 जनवरी 1981 में हुई गोलीकांड में का० कालीचरण राय एवं अन्य कई साथी मारे गये. देशभर में इस आंदोलन की धमक सुनाई दी थी.

आज राज्य एवं देश के अंदर फासिवादियों की सरकार है. संविधान एवं लोकतंत्र पर साजिशन हमला किया जा रहा है. दलित- गरीब-मजदूर- महिला- किसान हितैषी योजनाओं में में बड़े पैमाने पर लूट- भ्रष्टाचार है. हमें शहीदों से प्रेरणा लेते हुए पार्टी- संगठन को और मजबूत बनाते हुए आंदोलन तेज करने का आह्वान उपस्थित कार्यकर्ताओं से किया.

यह भी पढ़ें  शराब बेचने को लेकर आपसी प्रतिद्वंदिता में की गई, आटा चक्की संचालक की हत्या

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button